Monday, June 5, 2023
Home खबर उत्तराखंड नरेंद्रनगर-जय माता दी -माँ कुंजापुरी सिद्धपीठ की महिमा है निराली

नरेंद्रनगर-जय माता दी -माँ कुंजापुरी सिद्धपीठ की महिमा है निराली

कुंजापुरी नाम एक शिखर पर स्थित मंदिर को दिया गया है जो समुद्र तल से 1676 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है | कुंजापुरी मंदिर एक पौराणिक एवं पवित्र सिद्ध पीठ के रूप में विख्यात है | यह स्थल केवल देवी देवताओं से संबंधित कहानी के कारण ही नहीं बल्कि यहाँ से गढ़वाल की हिमालयी चोटियों के विशाल दृश्य के लिए भी प्रसिद्ध है | यहाँ से हिमालय पर्वतमाला के सुंदर दृश्य हिमालय के स्वर्गारोहनी, गंगोत्री, बंदरपूँछ, चौखंबा और भागीरथी घाटी के ऋषिकेश, हरिद्वार और दूनघाटी के दृश्य दिखाई देते हैं । यह नरेंद्र नगर से 7 किमी, ऋषिकेश से 15 किमी और देवप्रयाग से 93 किमी दूर है।
यदि आप एक प्रकृति प्रेमी हैं और कुछ अलग करना चाहते हैं, तो चंबा मार्ग स्थित हिंडोलाखाल से हरे भरे जंगलों से होते हुए मंदिर तक की साहसी यात्रा आपको पसंद आएगी । यह लगभग 5 किमी दूरी की यात्रा है यात्री हिमालयी चोटियों से सूर्योदय और सूर्यास्त देखना पसंद करते हैं। मंदिर तक पहुंचने के बाद, तीर्थयात्रियों को उनके प्रियजनों के साथ चाय आदि हेतु खाने के छोटे ढाबे हैं, आस-पास की सुंदरता का आनंद लेने के साथ ही यहाँ तस्वीरों को खींच सकते हैं। कुंजपुरी मंदिर का उद्घाटन समय 6 बजे से 8 बजे तक है। कुंजपुरी मंदिर का दौरा करने का सबसे अच्छा समय पूरे वर्ष है। नवरात्रि सीज़न में यहां आयें और हिंदू अनुष्ठानों और भारतीय संस्कृति की सुंदरता को देखने का मौका प्राप्त करें।
स्कन्दपुराण के अनुसार राजा दक्ष की पुत्री, सती का विवाह भगवान शिव से हुआ था। त्रेता युग में असुरों के परास्त होने के बाद दक्ष को सभी देवताओं का प्रजापति चुना गया। उन्होंने इसके उपलक्ष में कनखल में यज्ञ का आयोजन किया। उन्होंने, हालांकि, भगवान शिव को आमंत्रित नहीं किया क्योंकि भगवान शिव ने दक्ष के प्रजापति बनने का विरोध किया था। भगवान शिव और सती ने कैलाश पर्वत, जो भगवान शिव का वास-स्थान है, से सभी देवताओं को गुजरते देखा और यह जाना कि उन्हें निमंत्रित नहीं किया गया है। जब सती ने अपने पति के इस अपमान के बारे में सुना तो वे यज्ञ-स्थल पर गईं और हवन कुंड में अपनी बलि दे दी। जब तक शिव वहां पहुंचते तब तक वे बलि हो चुकी थीं।
भगवान शिव ने क्रोध में आकर तांडव किया और अपनी जटाओं से गण को छोड़ा तथा उसे दक्ष का सर काट कर लाने तथा सभी देवताओं को मार-पीट कर भगाने का आदेश दिया। पश्चातापी देवताओं ने भगवान शिव से क्षमा याचना की और उनसे दक्ष को यज्ञ पूरा करने देने की विनती की। लेकिन, दक्ष की गर्दन तो पहले ही काट दी गई थी। इसलिए, एक भेड़े का गर्दन काटकर दक्ष के शरीर पर रख दिया गया ताकि वे यज्ञ पूरा कर सकें।
भगवान शिव ने हवन कुंड से सती के शरीर को बाहर निकाला तथा शोकमग्न और क्रोधित होकर वर्षों तक इसे अपने कंधों पर ढोते विचरण करते रहें। इस असामान्य घटना पर विचार-विमर्श करने सभी देवतागण एकत्रित हुए क्योंकि वे जानते थे कि क्रोध में भगवान शिव समूची दुनिया को नष्ट कर सकते हैं। आखिरकार, यह निर्णय लिया गया कि भगवान विष्णु अपने सुदर्शन चक्र का उपयोग करेंगे। भगवान शिव के जाने बगैर भगवान विष्णु ने अपने सुदर्शन चक्र से सती के शरीर को 52 टुकड़ों में विभक्त कर दिया। धरती पर जहां कहीं भी सती के शरीर का टुकड़ा गिरा, वे स्थान सिद्ध पीठों या शक्ति पीठों (ज्ञान या शक्ति के केन्द्र) के रूप में जाने गए। उदाहरण के लिए नैना देवी वहां हैं, जहां उनकी आंखें गिरी थीं, ज्वाल्पा देवी वहां हैं, जहां उनकी जिह्वा गिरी थी, सुरकंडा देवी वहां हैं, जहां उनकी गर्दन गिरी थी और चंदबदनी देवी वहां हैं, जहां उनके शरीर का नीचला हिस्सा गिरा था।
उनके शरीर के ऊपरी भाग, यानि कुंजा उस स्थान पर गिरा जो आज कुंजापुरी के नाम से जाना जाता है। इसे शक्तिपीठों में गिना जाता है।
KHABAR IBN7 हर खबर आप तकhttps://khabaribn7.com/
KHABAR IBN7 - Uttarakhand most popular hindi news portal.
RELATED ARTICLES

उत्तराखंड की इस जगह में बनेगी पहली टनल पार्किंग, 400 वाहनों को पार्क करने की मिलेगी सुविधा

देहरादून। उत्तराखंड में पहली टनल पार्किंग कैंप्टीफाल में बनेगी, जिसकी 120 करोड़ की डीपीआर तैयार हो चुकी है। इसी महीने अपर मुख्य सचिव और मुख्य...

सीएम धामी के सपनों को सच करते पिटकुल एमडी पी.सी. ध्यानी

जाफरपुर-रुद्रपुर रेललाइन पर अब बिजली से दौड़ेंगी रेल, विद्युतीकरण कार्य पूरा 42 किलोमीटर लंबी पिथौरागढ़-चम्पावत ट्रांसमिशन लाइन में भी बिजली पारेषण शुरू” पिटकुल की बड़ी उपलब्धि,...

पंडित धीरेंद्र शास्त्री पहुंचे बद्रीनाथ धाम, मंदिर समिति की ओर से किया गया स्वागत

देहरादून। बागेश्वर धाम के मुखिया पंडित धीरेंद्र शास्त्री भगवान बद्रीविशाल  के दर्शन करने पहुंचे। कड़ी सुरक्षा के बीच बद्रीनाथ धाम पहुंचे धीरेंद्र शास्त्री का मंदिर...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

गर्मियों में शरीर को ठंडा रखने के लिए ट्राई करें आइस टी, जानिए इसकी 5 रेसिपी

गर्मियों के मौसम में गर्मी से छुटकारा पाने के लिए आइस टी एक अच्छा और स्वास्थ्यवर्धक विकल्प हो सकता है। इसका सेवन शरीर को...

नहीं बिकेंगी पेरासिटामोल सहित कई खांसी-बुखार की दवाइयां, सरकार ने एफडीसी की 14 दवाओं पर लगाया बैन

नई दिल्ली। सरकार ने एफडीसी की 14 दवाओं पर प्रतिबंध लगा दिया है। इसमें खांसी और बुखार की दवाइयां भी शामिल हैं। सरकार ने अधिसूचना...

जरा हटके जरा बचके की अच्छी शुरुआत, जोगीरा… हुई ठप

विक्की कौशल और सारा अली खान की फिल्म जरा हटके जरा बचके इस हफ्ते की नई रिलीज है। दिनेश विजान द्वारा निर्मित इस फिल्म...

उत्तराखंड की इस जगह में बनेगी पहली टनल पार्किंग, 400 वाहनों को पार्क करने की मिलेगी सुविधा

देहरादून। उत्तराखंड में पहली टनल पार्किंग कैंप्टीफाल में बनेगी, जिसकी 120 करोड़ की डीपीआर तैयार हो चुकी है। इसी महीने अपर मुख्य सचिव और मुख्य...

भारत के लिए मौसम होगा बड़ी चुनौती

एक ताजा शोध में कहा गया है कि अगर दुनिया का तापमान बढ़ता रहा, तो सबसे ज्यादा असर भारत पर होगा। इस शोध के...

सीएम धामी के सपनों को सच करते पिटकुल एमडी पी.सी. ध्यानी

जाफरपुर-रुद्रपुर रेललाइन पर अब बिजली से दौड़ेंगी रेल, विद्युतीकरण कार्य पूरा 42 किलोमीटर लंबी पिथौरागढ़-चम्पावत ट्रांसमिशन लाइन में भी बिजली पारेषण शुरू” पिटकुल की बड़ी उपलब्धि,...

पंडित धीरेंद्र शास्त्री पहुंचे बद्रीनाथ धाम, मंदिर समिति की ओर से किया गया स्वागत

देहरादून। बागेश्वर धाम के मुखिया पंडित धीरेंद्र शास्त्री भगवान बद्रीविशाल  के दर्शन करने पहुंचे। कड़ी सुरक्षा के बीच बद्रीनाथ धाम पहुंचे धीरेंद्र शास्त्री का मंदिर...

सीएम से मिले ओलंपिक वर्ल्ड समर गेम्स में हिस्सा लेने वाले खिलाड़ी

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से रविवार को मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय में स्पेशल ओलंपिक वर्ल्ड समर गेम्स में प्रतिभाग करने के लिए जा रहे खिलाड़ियों...

अनूठी पहल :- खुद अपना टिफिन लेकर पहुंचे थे CM धामी, जमीन पर बैठकर कार्यकर्ताओं संग किया भोजन

चंपावत दौरे में सीएम धामी की पहल से कार्यकर्ता उत्साहित चंपावत। सीएम पुष्कर सिंह धामी के इस बार के चंपावत दौरे में अनोखी पहल देखने को...

केदारनाथ धाम दर्शन करने पहुंचे प्रसिद्ध क्रिकेटर इशांत शर्मा

रुद्रप्रयाग। प्रसिद्ध क्रिकेटर इशांत शर्मा आज पूर्वाह्न श्री केदारनाथ भगवान के दर्शन को पहुंचे। मंदिर में पूजा-अर्चना की। मंदिर में पूजा-अर्चना की। श्री बदरीनाथ- केदारनाथ...

Recent Comments