Breaking News
सीएम धामी ने केदारपुरी में चल रहे पुनर्निर्माण कार्यों की समीक्षा की
भारी बारिश के चलते जगह- जगह हुआ जलभराव, पुलिस ने लोगों से की धैर्य रखने और जल्दबाजी न करने की अपील 
आपदाओं से होने वाले नुकसान की भरपाई करने वाला बजट- महाराज
कौन से डायबिटीज में खा सकते हैं आलू, नहीं पड़ेगा सेहत पर कोई असर
सैनिक कल्याण मंत्री गणेश जोशी ने सीडीएस जनरल अनिल चौहान से की शिष्टाचार भेंट 
केदारनाथ के तीर्थ पुरोहितों ने सीएम धामी का किया भव्य स्वागत
जिला प्रशासन ने डेंगू की रोकथाम के लिए किया कंट्रोल रूम स्थापित 
महिला एशिया कप 2024- नेपाल को 82 रनों से हराकर भारत ने सेमीफाइनल में बनाई जगह 
केंद्रीय कृषि मंत्री शिवराज से मिले महाराज

कुदरत का कहर- भारी बारिश से आई बाढ़ ने मचायी तबाही, 47 लोगों की हुई मौत

कई घर हुए तबाह

बीजिंग।  चीन के दक्षिणी क्षेत्र में स्थित गुआंग्डोंग प्रांत में भारी बारिश के कारण आई भीषण बाढ़ और भूस्खलन में कम से कम 47 लोगों की मौत हो गई है। चीन की सरकारी मीडिया ने कहा कि मीझोउ शहर में 38 अन्य लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। इसने कहा कि इसी शहर में इसके पहले नौ अन्य लोगों की मौत हुई थी। बता दें कि अप्रैल में ही चीन में 100 साल की सबसे भयावह बाढ़ की चेतावनी जारी की गई थी। इस दौरान भी चीन के कई प्रांत सैलाब में डूबे थे। इस सैलाब ने लाखों घरों को अपनी चपेट में ले लिया।

दरअसल दक्षिण चीन का गुआंग्डोंग प्रांत मूसलाधार बारिश का प्रकोप झेल रहा है। हालत ये है कि दक्षिण चीन में कई नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। इसकी वजह से कई इलाकों में जल-प्रलय जैसे हालात हो गए हैं। जिसके चलते लोगों को सुरक्षित ठिकानों में शिफ्ट किया गया है। जानकारी के मुताबिक, अधिकारियों ने बताया कि बाढ़ और भूस्खलन की वजह से सैकड़ों घर क्षतिग्रस्त हो गए हैं। इसके साथ ही फसलें भी नष्ट हो गईं हैं। अधिकारियों के अनुसार, बचाव दल की टीमें लापता लोगों की तलाश में जुटी हैं और प्रभावित क्षेत्रों में सहायता पहुंचा रही हैं।

इससे पहले गुरुवार को भूस्खलन, बाढ़ और अन्य आपदाओं से उत्पन्न स्थिति से निपटने के लिए गुआंग्डोंग में इमरजेंसी रिस्पॉन्स के लेवल को बढ़ा दिया गया था। ताकि लोगों तक जल्दी मदद पहुंच सके। कई अन्य प्रांतों में पहले ही लेवल इमरजेंसी रिस्पॉन्स एक्टिव कर दिया गया है। जानकारी के मुताबिक चीन में बाढ़ का मौसम पिछले सालों के मुकाबले इस बार पहले शुरू हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top